You are currently viewing सखी आओ शायरी करे,
लफज़ो में बातो की तुकबंदी करे,,
कुछ तुम सुनाओ दोस्ती फरेब भरी …
-आओ-शायरी-करे-लफज़ो-में-बातो-की-तुकबंदी-करे

सखी आओ शायरी करे, लफज़ो में बातो की तुकबंदी करे,, कुछ तुम सुनाओ दोस्ती फरेब भरी …

सखी आओ शायरी करे,
लफज़ो में बातो की तुकबंदी करे,,
कुछ तुम सुनाओ दोस्ती फरेब भरी बातें,
कुछ हम भी आगे मोहब्बत #रस्म अदायगी करे,,
@Pinaki64693114 @ApoorvaPinaki
#काव्यांश
#रस्म https://t.co/MKTI91AdSh
सखी आओ शायरी करे,
लफज़ो में बातो की तुकबंदी करे,,
कुछ तुम सुनाओ दोस्ती फरेब भरी …

सखी आओ शायरी करे,
लफज़ो में बातो की तुकबंदी करे,,
कुछ तुम सुनाओ दोस्ती फरेब भरी बातें,
कुछ हम भी आगे मोहब्बत #रस्म अदायगी करे,,
@Pinaki64693114 @ApoorvaPinaki
#काव्यांश
#रस्म https://t.co/MKTI91AdSh
#सख #आओ #शयर #करलफज #म #बत #क #तकबद #करकछ #तम #सनओ #दसत #फरब #भर

Twitter shayarish by कुँवर विजयेन्द्र सिंह जादौन

Leave a Reply