||शेरो शायरी कोई खेल नहीं जनाब जल जाती है जवनियाँ लफ्जो की आग में||…

[ad_1]

||🍁शेरो शायरी कोई खेल नहीं जनाब

जल जाती है जवनियाँ लफ्जो की आग में🍁||
[ad_2]

Source by 🍁ज़िंदगी_गुलजार_है 🍁

Leave a Reply