शायरी होती ग़र ख़ून में,तो लिखते भी सुखनवरों की भीड़ में,कहीं दिखते भी लफ्ज़ जो…

[ad_1]

शायरी होती ग़र ख़ून में,तो लिखते भी
सुखनवरों की भीड़ में,कहीं दिखते भी

लफ्ज़ जोड़ मिसरा बनाना,शायरी नहीं
न ज़ख़्म सिसके बात पे,बात क्या कही

सुख़नवर–शायर

~अशोक मसरूफ़
#WorldPoetryDay @Rekhta
@BazmEShoara
#मसरूफ़ #बज़्म
[ad_2]

Source by Ashok Mushroof

Leave a Reply