You are currently viewing शायरी झूठ ही सही इश्क़ फसाना ही सही
~~
जिंदा रहने के लिए कोई बहाना ही सही …
-झूठ-ही-सही-इश्क़-फसाना-ही-सही-जिंदा

शायरी झूठ ही सही इश्क़ फसाना ही सही ~~ जिंदा रहने के लिए कोई बहाना ही सही …

[ad_1]

शायरी झूठ ही सही इश्क़ फसाना ही सही
~~
जिंदा रहने के लिए कोई बहाना ही सही https://t.co/EGV4OfoUG7
[ad_2]

Source by अजय बहादुर

Leave a Reply