शायरी की पहुँच तो मुकम्मल खयाल तक है। इश्क़ मेरा बेहिसाब और बेमुकम्मल ख़याल त…

  • Post category:Best-Shayari

[ad_1]

शायरी की पहुँच तो
मुकम्मल खयाल तक है।

इश्क़ मेरा बेहिसाब और
बेमुकम्मल ख़याल तक है ।।

#बज़्म
#अमृत
[ad_2]

Source by अमृत .