You are currently viewing वो शायरी ही क्या जिसमें तेरा ज़िक्र न हो
वो दिल ही क्या जिसकी धड़कन तुम न हो
वो …
-शायरी-ही-क्या-जिसमें-तेरा-ज़िक्र-न-हो-वो

वो शायरी ही क्या जिसमें तेरा ज़िक्र न हो वो दिल ही क्या जिसकी धड़कन तुम न हो वो …

  • Post category:Best-Shayari

[ad_1]

वो शायरी ही क्या जिसमें तेरा ज़िक्र न हो
वो दिल ही क्या जिसकी धड़कन तुम न हो
वो आँखें ही क्या जो तुम्हें ढूंढते न हो
वो ख़्वाब ही क्या जिसमें तेरा ख़्याल न हो
वो लम्हा ही कैसा जिसमें तेरा साथ न हो
वो इश्क़ ही क्या जिसमें तेरा फितूर न हो
वो मोहब्बत ही क्या जिसमें मेरा जुनून न हो.. https://t.co/apxyQ0XaYM
[ad_2]

Source by RINKY