वक्त की मार और इश्क़ के बुखार से, कहाँ कोई बचा है…. क्योंकि इनके कश्ती में जो…

[ad_1]

वक्त की मार और इश्क़ के बुखार से,
कहाँ कोई बचा है….

क्योंकि इनके कश्ती में जो सवार थे,
वो हर एक शक़्स डूबा हैं….

#प्रेम_निमित्त ❤️
#शायरी
[ad_2]

Source by Nikita

Leave a Reply