वक़्त और पुराने खत दबे मिलते थे किताबो मे Mobile का inbox जाने क्या- क्या ले गया…

वक़्त और पुराने खत दबे मिलते थे किताबो मे
Mobile का inbox जाने क्या- क्या ले गया मुझसे……????
डायरी की शायरी📖🖋❤
_मिश्रा जी❤
वक़्त और पुराने खत दबे मिलते थे किताबो मे
Mobile का inbox जाने क्या- क्या ले गया…

वक़्त और पुराने खत दबे मिलते थे किताबो मे
Mobile का inbox जाने क्या- क्या ले गया मुझसे……????
डायरी की शायरी📖🖋❤
_मिश्रा जी❤
#वकत #और #परन #खत #दब #मलत #थ #कतब #मMobile #क #inbox #जन #कय #कय #ल #गय

Twitter shayarish by Mishra ji 🇮🇳

Leave a Reply