You are currently viewing रातें महत़ाब से 
दिन आफ़ताब से 
सजते हैं।

ये रुख़सार 
तेरे दिल-ए-जज़्बात से 
चह…
-महत़ाब-से-दिन-आफ़ताब-से-सजते-हैं।-ये-रुख़सार

रातें महत़ाब से दिन आफ़ताब से सजते हैं। ये रुख़सार तेरे दिल-ए-जज़्बात से चह…

रातें महत़ाब से
दिन आफ़ताब से
सजते हैं।
🙏🌹🙏
ये रुख़सार
तेरे दिल-ए-जज़्बात से
चहकते हैं।
🙏🌹🙏
आपका ये
शुभ-दिवस-रात्रि का
संदेश प्रिय।
🙏🌹🙏
मेरे यादों कि
त़लहटी में गुलाब से
दमक़ते हैं।
🖌-:”सुहाना”:-
#कलम
#वीणा
#शायरांश
#शायरी
#हिंदी_शब्द https://t.co/NpbjsDPH51
रातें महत़ाब से
दिन आफ़ताब से
सजते हैं।

ये रुख़सार
तेरे दिल-ए-जज़्बात से
चह…

रातें महत़ाब से
दिन आफ़ताब से
सजते हैं।
🙏🌹🙏
ये रुख़सार
तेरे दिल-ए-जज़्बात से
चहकते हैं।
🙏🌹🙏
आपका ये
शुभ-दिवस-रात्रि का
संदेश प्रिय।
🙏🌹🙏
मेरे यादों कि
त़लहटी में गुलाब से
दमक़ते हैं।
🖌-:”सुहाना”:-
#कलम
#वीणा
#शायरांश
#शायरी
#हिंदी_शब्द https://t.co/NpbjsDPH51
#रत #महतब #स #दन #आफतब #स #सजत #हय #रखसर #तर #दलएजजबत #स #चह

Twitter shayarish by 🌹सुहाना🌹