ये शायरी नहीं हैं एहसास हैं मेरे , लफ़्जों ने तो हमें इस क़दर करीब किया है ! ~सा…

[ad_1]

ये शायरी नहीं हैं एहसास हैं मेरे ,
लफ़्जों ने तो हमें इस क़दर करीब किया है !
~साहिब❤️
[ad_2]

Source by चिट्ठी 🎎

Leave a Reply