ये कोई हुनर नहीं, …ये तो बस जज्बात हैं… शायरी समझते हों जिसे तुम, ……..वो…

[ad_1]

ये कोई हुनर नहीं, …ये तो बस जज्बात हैं…
शायरी समझते हों जिसे तुम, ……..वो मेरी किसी से अधूरी मुलाकात है।🌷❤🌷
[ad_2]

Source by Vicky G reen Chilli 🤑

Leave a Reply