याद आयेगी तेरी हर रोज मगर तुझे आवाज नहीं दुगीं लिखुगीं तेरे लिए रोज शायरी …

[ad_1]

याद आयेगी तेरी हर रोज
मगर तुझे आवाज नहीं दुगीं
लिखुगीं तेरे लिए रोज शायरी
मगर तेरा नाम नहीं लुंगी !!
[ad_2]

Source by Pushpa..

Leave a Reply