You are currently viewing यदि मकान आज भी खपड़े का होता तो
      यकिनन ये चेहरा बिन कपड़े का होता ..      …
यदि-मकान-आज-भी-खपड़े-का-होता-तो-यकिनन-ये

यदि मकान आज भी खपड़े का होता तो यकिनन ये चेहरा बिन कपड़े का होता .. …

▪️ यदि मकान आज भी खपड़े का होता तो
यकिनन ये चेहरा बिन कपड़े का होता ..
~कवि रवि 🍁

#brahmashmi20
#बज़्म #शायरी #हिंदी_शब्द https://t.co/XJUrhbsJ21
यदि मकान आज भी खपड़े का होता तो
यकिनन ये चेहरा बिन कपड़े का होता .. …

▪️ यदि मकान आज भी खपड़े का होता तो
यकिनन ये चेहरा बिन कपड़े का होता ..
~कवि रवि 🍁

#brahmashmi20
#बज़्म #शायरी #हिंदी_शब्द https://t.co/XJUrhbsJ21
#यद #मकन #आज #भ #खपड #क #हत #त #यकनन #य #चहर #बन #कपड #क #हत

Twitter shayarish by कवि रवि रंजन 🍁