मोहब्बत का परिंदा हूं किसी से बैर नहीं रखता, जहां नफ़रतें बिखरी हों,वहां मैं, पै…

मोहब्बत का परिंदा हूं किसी से बैर नहीं रखता,
जहां नफ़रतें बिखरी हों,वहां मैं, पैर नहीं रखता…!!
#शायरी
मोहब्बत का परिंदा हूं किसी से बैर नहीं रखता,
जहां नफ़रतें बिखरी हों,वहां मैं, पै…

मोहब्बत का परिंदा हूं किसी से बैर नहीं रखता,
जहां नफ़रतें बिखरी हों,वहां मैं, पैर नहीं रखता…!!
#शायरी
#महबबत #क #परद #ह #कस #स #बर #नह #रखतजह #नफरत #बखर #हवह #म #प

Twitter shayarish by Ritesh Rai Bjp

Leave a Reply