You are currently viewing मै चाहता हु के तुझसे इश्क़ मुक़म्मल करु
मगर हर रोज़ मेरी चाहत बदल सी जाती है
और …
मै-चाहता-हु-के-तुझसे-इश्क़-मुक़म्मल-करु-मगर-हर

मै चाहता हु के तुझसे इश्क़ मुक़म्मल करु मगर हर रोज़ मेरी चाहत बदल सी जाती है और …

मै चाहता हु के तुझसे इश्क़ मुक़म्मल करु
मगर हर रोज़ मेरी चाहत बदल सी जाती है
और जब भी में किसी पे विश्वास करने लगता हु
के अगले ही पल सामने उसकी सच्चाई आ जाती है
#शायरी
#KGFChapter2
#ATTITUDE https://t.co/FsMyy8V016
मै चाहता हु के तुझसे इश्क़ मुक़म्मल करु
मगर हर रोज़ मेरी चाहत बदल सी जाती है
और …

मै चाहता हु के तुझसे इश्क़ मुक़म्मल करु
मगर हर रोज़ मेरी चाहत बदल सी जाती है
और जब भी में किसी पे विश्वास करने लगता हु
के अगले ही पल सामने उसकी सच्चाई आ जाती है
#शायरी
#KGFChapter2
#ATTITUDE https://t.co/FsMyy8V016
#म #चहत #ह #क #तझस #इशक #मकममल #करमगर #हर #रज #मर #चहत #बदल #स #जत #हऔर

Twitter shayarish by Hashim Khan

Leave a Reply