मैं शायरी नही लिखता ! क्योंकि शब्दों के लिबास से, ख़यालों की रूह छुप ज़ाया करती …

[ad_1]

मैं शायरी नही लिखता !
क्योंकि शब्दों के लिबास से,
ख़यालों की रूह छुप ज़ाया करती है !!
[ad_2]

Source by The Brain Doctor

Leave a Reply