मैं नहीं चाहता मेरी चीख़ को शायरी जानकर क़द्रदानों के मजमे में ताली बजे वाहवाही …

मैं नहीं चाहता
मेरी चीख़ को शायरी जानकर
क़द्रदानों के मजमे में ताली बजे
वाहवाही मिले
और मैं अपनी मसनद प’ बैठा हुआ
पान खाता रहूँ
मुस्कुराता रहूँ।

#नोमान_शौक़
#नज़्म
#जन्मदिन मुबारक 🎂
@NomaanShauq
मैं नहीं चाहता
मेरी चीख़ को शायरी जानकर
क़द्रदानों के मजमे में ताली बजे
वाहवाही …

मैं नहीं चाहता
मेरी चीख़ को शायरी जानकर
क़द्रदानों के मजमे में ताली बजे
वाहवाही मिले
और मैं अपनी मसनद प’ बैठा हुआ
पान खाता रहूँ
मुस्कुराता रहूँ।

#नोमान_शौक़
#नज़्म
#जन्मदिन मुबारक 🎂
@NomaanShauq
#म #नह #चहतमर #चख #क #शयर #जनकरकदरदन #क #मजम #म #तल #बजवहवह

Twitter shayarish by Margret.

Leave a Reply