मैं #कीमत चुका कर लौट आया…. अहसान का बोझ सर पर रखता नहीं कोई प्यार से खिलाए तो…

मैं #कीमत चुका कर लौट आया….
अहसान का बोझ सर पर रखता नहीं
कोई प्यार से खिलाए तो ज़हर खा लूॅं
मगर बेरुखी के अमृत भी चखता नहीं
© देवेंद्र
#शायरी #दोस्ती #काव्य_कृति
@JaunSee @hindisopan
मैं #कीमत चुका कर लौट आया….
अहसान का बोझ सर पर रखता नहीं
कोई प्यार से खिलाए तो…

मैं #कीमत चुका कर लौट आया….
अहसान का बोझ सर पर रखता नहीं
कोई प्यार से खिलाए तो ज़हर खा लूॅं
मगर बेरुखी के अमृत भी चखता नहीं
© देवेंद्र
#शायरी #दोस्ती #काव्य_कृति
@JaunSee @hindisopan
#म #कमत #चक #कर #लट #आयअहसन #क #बझ #सर #पर #रखत #नहकई #पयर #स #खलए #त

Twitter shayarish by हिन्दी का हितैषी

Leave a Reply