You are currently viewing मैं  ओशो का सन्यासी हूँ 
गीता भी  पढ़ा हूँ,  गालीब को भी पढ़ा हूँ.  
क्या फर्क प…
-ओशो-का-सन्यासी-हूँ-गीता-भी-पढ़ा-हूँ-गालीब

मैं ओशो का सन्यासी हूँ गीता भी पढ़ा हूँ, गालीब को भी पढ़ा हूँ. क्या फर्क प…

[ad_1]

मैं ओशो का सन्यासी हूँ
गीता भी पढ़ा हूँ, गालीब को भी पढ़ा हूँ.
क्या फर्क पड़ेगा ?
शायरी हो या कुछ संगीत बज रहा हो
जो मनभावन हो, ईश्वर की याद दिलाता हो,
मैं उस दशा में खो जाता हूँ https://t.co/FDeTr7ymsC
[ad_2]

Source by Mahesh Mehta

Leave a Reply