मेरी शायरी मे मेरी शख्शियत ना खोज, मुरशद, जब कोई कहता है खुद को मेरी जगह रख कर …

[ad_1]

मेरी शायरी मे मेरी शख्शियत ना खोज, मुरशद,

जब कोई कहता है खुद को मेरी जगह रख कर सोच, तो सोच लेता हूँ..!!
.
.
.
~अज्ञात
[ad_2]

Source by BS Meena

Leave a Reply