You are currently viewing मेरी शायरी का मक़सद _____

सिर्फ़ तुम हो 

वरना वह वह तो  लोग मेरी 

#सूरत पर भी…
मेरी-शायरी-का-मक़सद- -सिर्फ़-तुम-हो-वरना-वह

मेरी शायरी का मक़सद _____ सिर्फ़ तुम हो वरना वह वह तो लोग मेरी #सूरत पर भी…

[ad_1]

❣️मेरी शायरी का मक़सद ❣️_____❣️❣️

💕सिर्फ़ तुम हो 💕

❣️वरना वह वह तो लोग मेरी ❣️

#सूरत ❣️पर भी करते है ❣️💕 https://t.co/OkaBI0jShj
[ad_2]

Source by 💗WAFA CHAUDHRY💗

Leave a Reply