मेरी शायरी का असर उन पर हो भी तो कैसे हो ? के मैं अहसास लिखता हूँ वो अल्फाज़ पढ़…

[ad_1]

मेरी शायरी का असर उन पर हो भी तो कैसे हो ?
के मैं अहसास लिखता हूँ वो अल्फाज़ पढ़ते हैं…

#Jalim
[ad_2]

Source by जालिम पत्रकार🤡

Leave a Reply