You are currently viewing मेरी शायरी करने की अदा पर फिदा मत हुआ करो,
मेरे दिल के हर अल्फ़ाज़ पर किसी का हक…
-शायरी-करने-की-अदा-पर-फिदा-मत-हुआ-करो

मेरी शायरी करने की अदा पर फिदा मत हुआ करो, मेरे दिल के हर अल्फ़ाज़ पर किसी का हक…

[ad_1]

मेरी शायरी✍️ करने की अदा पर फिदा मत हुआ करो,🤴
मेरे दिल❣️ के हर अल्फ़ाज़ पर किसी का हक़ है…😘✍️ https://t.co/XAmCblayr2
[ad_2]

Source by Sweet.143

Leave a Reply