You are currently viewing मेरी मोहब्बत में,
 वो आसमां थी और मैं जमीं ,
दूर से देखो तो नज़दीक नज़र आते …
…
मेरी-मोहब्बत-में-वो-आसमां-थी-और-मैं-जमीं

मेरी मोहब्बत में, वो आसमां थी और मैं जमीं , दूर से देखो तो नज़दीक नज़र आते … …

▪️मेरी मोहब्बत में,
वो आसमां थी और मैं जमीं ,
दूर से देखो तो नज़दीक नज़र आते …
नज़दीक से देखो तो दूर नज़र आते.. .
~कवि रवि 🍁

#brahmashmi20
#बज़्म #शायरी #हिंदी_शब्द https://t.co/nQuDcHUxAs
मेरी मोहब्बत में,
वो आसमां थी और मैं जमीं ,
दूर से देखो तो नज़दीक नज़र आते …

▪️मेरी मोहब्बत में,
वो आसमां थी और मैं जमीं ,
दूर से देखो तो नज़दीक नज़र आते …
नज़दीक से देखो तो दूर नज़र आते.. .
~कवि रवि 🍁

#brahmashmi20
#बज़्म #शायरी #हिंदी_शब्द https://t.co/nQuDcHUxAs
#मर #महबबत #म #व #आसम #थ #और #म #जम #दर #स #दख #त #नजदक #नजर #आत

Twitter shayarish by कवि रवि रंजन 🍁

Leave a Reply