मेरी मोहब्बत ना सही मेरी शायरी की तो दाद दे” मैं रोज़ तेरा ज़िक्र करता हूँ तेरा…

मेरी मोहब्बत ना सही मेरी शायरी की तो दाद दे”

मैं रोज़ तेरा ज़िक्र करता हूँ तेरा नाम लिये बगैर।
मेरी मोहब्बत ना सही मेरी शायरी की तो दाद दे”

मैं रोज़ तेरा ज़िक्र करता हूँ तेरा…

मेरी मोहब्बत ना सही मेरी शायरी की तो दाद दे”

मैं रोज़ तेरा ज़िक्र करता हूँ तेरा नाम लिये बगैर।
#मर #महबबत #न #सह #मर #शयर #क #त #दद #दम #रज #तर #जकर #करत #ह #तर

Twitter shayarish by चाचा,,,,

Leave a Reply