मेरी कलम कि स्याही सी थी तुम मेरी किताब की जिल्द भी थे तुम मेरे लिए जीवन ज्योति …

[ad_1]

मेरी कलम कि स्याही सी थी तुम
मेरी किताब की जिल्द भी थे तुम
मेरे लिए जीवन ज्योति रहे थे तुम
आज मेरी उदासी कि वजह हो तुम

~ सुनील पंवार 🌻

#फिर_उसी_कि_याद
#aaloknama
#३ह
#बज़्म
#हिंदी_शब्द #संस्कार #शायरांश #शायरी @AalokTweet
@GeetChaturvedi
@manojmuntashir
@Mahanaatma1
[ad_2]

Source by सुनील पंवार ✍️

Leave a Reply