मेरा बसर हुआ ऐसा, कि बेबाक़ सा मैं हो गया, कुछ था थोड़े ज़िंदगी में, बेबसी से मै…

[ad_1]

मेरा बसर हुआ ऐसा,
कि बेबाक़ सा मैं हो गया,
कुछ था थोड़े ज़िंदगी में,
बेबसी से मैं ख़्वाब सा हो गया।

#शायरी #बज़्म #शायरांश #शायर #हिंदी #urdupoetry #hindipoetry #poetry #आशु #PoetsTwitter #quotes/">quotesoftheday #PoetryClubPPP
[ad_2]

Source by Anshuman

Leave a Reply