You are currently viewing मूल के मौजूदा हालात पर मुनव्वर राना साहब की शायरी 
सरफिरे लोग हमें दुश्मन है जहा…
मूल-के-मौजूदा-हालात-पर-मुनव्वर-राना-साहब-की-शायरी

मूल के मौजूदा हालात पर मुनव्वर राना साहब की शायरी सरफिरे लोग हमें दुश्मन है जहा…

मूल के मौजूदा हालात पर मुनव्वर राना साहब की शायरी😢
सरफिरे लोग हमें दुश्मन है जहां कहते हैं हम जो इस मुल्क की मिट्टी को भी मां कहते हैं तुझे आए खाके वतन तायमुम की कसम।। तू बता दें यह सजदाओ के निशा कहते है आपने खोल के मोहब्बत नहीं की हम से आप भाई नहीं भाई मिया कहते है https://t.co/jpopTfZg7F

मूल के मौजूदा हालात पर मुनव्वर राना साहब की शायरी
सरफिरे लोग हमें दुश्मन है जहा…

मूल के मौजूदा हालात पर मुनव्वर राना साहब की शायरी😢
सरफिरे लोग हमें दुश्मन है जहां कहते हैं हम जो इस मुल्क की मिट्टी को भी मां कहते हैं तुझे आए खाके वतन तायमुम की कसम।। तू बता दें यह सजदाओ के निशा कहते है आपने खोल के मोहब्बत नहीं की हम से आप भाई नहीं भाई मिया कहते है https://t.co/jpopTfZg7F

#मल #क #मजद #हलत #पर #मनववर #रन #सहब #क #शयर #सरफर #लग #हम #दशमन #ह #जह

Twitter shayarish by Anas Ali

Leave a Reply