You are currently viewing मुलाकातें जरूरी नहीं मोहब्बत में,
        सूफियाना इश्क तो रूह से
 किया जाता है,…
-जरूरी-नहीं-मोहब्बत-में-सूफियाना-इश्क-तो-रूह-से

मुलाकातें जरूरी नहीं मोहब्बत में, सूफियाना इश्क तो रूह से किया जाता है,…

[ad_1]

मुलाकातें जरूरी नहीं मोहब्बत में,
सूफियाना इश्क तो रूह से
किया जाता है, ना जाने किस हुनर को शायरी
कहते हो तुम,

हम तो वही लिखते हैं जो
तुमसे कह नहीं पाते!! https://t.co/ki4PSViaUX
[ad_2]

Source by S Naaz

Leave a Reply