मुकम्मल सी लगती हैं मेरी शायरी…. लफ्ज़ जब सारे मेरे होते हैं…. …

[ad_1]

मुकम्मल सी लगती हैं मेरी शायरी….
लफ्ज़ जब सारे मेरे होते हैं….
और जिक्र सारा तेरा….
[ad_2]

Source by Chandan Doliya

Leave a Reply