You are currently viewing मिलना है
तो ज़रा क़रीब से मिलो,

यूँ दूर-दूर रहकर
मुलाक़ात ज़रा अधूरी सी रहती है…
-है-तो-ज़रा-क़रीब-से-मिलो-यूँ-दूर-दूर-रहकर

मिलना है तो ज़रा क़रीब से मिलो, यूँ दूर-दूर रहकर मुलाक़ात ज़रा अधूरी सी रहती है…

[ad_1]

मिलना है
तो ज़रा क़रीब से मिलो,

यूँ दूर-दूर रहकर
मुलाक़ात ज़रा अधूरी सी रहती है…..!!

#शायरी_की_डायरी ✍️
Good morning ❤️ https://t.co/0eRfm3X14s
[ad_2]

Source by अंजली 💯

Leave a Reply