You are currently viewing बेहतर से भी बेहतर है तेरा मुस्कुराना …..
पर कम्बक्त हर किसी के नसीब में नहीं त…
बेहतर-से-भी-बेहतर-है-तेरा-मुस्कुराना-पर-कम्बक्त-हर

बेहतर से भी बेहतर है तेरा मुस्कुराना ….. पर कम्बक्त हर किसी के नसीब में नहीं त…

[ad_1]

बेहतर से भी बेहतर है तेरा मुस्कुराना …..
पर कम्बक्त हर किसी के नसीब में नहीं तूझे पाना…

#brahmashmi20
#बज़्म #शायरी #हिंदी_शब्द https://t.co/IgnWgNWMuZ
[ad_2]

Source by कवि रवि रंजन ✍️✍️

Leave a Reply