बहोत हुए आबाद हम, अब कुछ बर्बाद भी होने दो, बहोत मिली शाबाशियाँ, अब कुछ गालियाँ …

[ad_1]

बहोत हुए आबाद हम,
अब कुछ बर्बाद भी होने दो,
बहोत मिली शाबाशियाँ,
अब कुछ गालियाँ भी होने दो।

#शायरी #बज़्म #शायरांश #शायर #हिंदी #urdupoetry #hindipoetry #poetry #आशु #PoetsTwitter #quotes/">quotesoftheday #PoetryClubPPP #people #Image
[ad_2]

Source by Anshuman

Leave a Reply