बहती है जिनकी रगों में स्याही वह वक्त के कागज पर अपनी धड़कनों की छाप छोड़ जाते ह

[ad_1]

बहती है जिनकी रगों में स्याही
वह वक्त के कागज पर अपनी धड़कनों की छाप छोड़ जाते हैं..

This one’s dedicated to all the writers and poets out there. Your each. more
.
.
#writing #writersoftwitter #writer #poetry #writingcommunity #love #quotes/">quotes #poem #poetrycommunity #friends
[ad_2]

Source by Utmostforhighest

Leave a Reply