बढ़ा जो दर्द-ए-जिगर ग़म से दोस्ती कर ली लहू जो आँख से टपका तो शायरी कर ली किस…

बढ़ा जो दर्द-ए-जिगर ग़म से दोस्ती कर ली
लहू जो आँख से टपका तो शायरी कर ली

किसी चराग़ से शिकवा नहीं किया मैं ने
जलाया ख़ून-ए-जिगर और रौशनी कर ली

वो इक ख़ता हमें बर्बाद कर दिया जिस ने
मज़ा ये देखो कि फिर से ख़ता वही कर ली!

#सुभाष_पाठक_ज़िया 🍀❤️
बढ़ा जो दर्द-ए-जिगर ग़म से दोस्ती कर ली
लहू जो आँख से टपका तो शायरी कर ली

किस…

बढ़ा जो दर्द-ए-जिगर ग़म से दोस्ती कर ली
लहू जो आँख से टपका तो शायरी कर ली

किसी चराग़ से शिकवा नहीं किया मैं ने
जलाया ख़ून-ए-जिगर और रौशनी कर ली

वो इक ख़ता हमें बर्बाद कर दिया जिस ने
मज़ा ये देखो कि फिर से ख़ता वही कर ली!

#सुभाष_पाठक_ज़िया 🍀❤️
#बढ #ज #दरदएजगर #गम #स #दसत #कर #ल #लह #ज #आख #स #टपक #त #शयर #कर #ल #कस

Twitter shayarish by Kumar Aashish Yadav