बचपन की शायरी जाता हूं बाजार खाता हूं पट्टी लोग मुझे कहते हैं सुनील शेट्टी जवा…

[ad_1]

बचपन की शायरी
जाता हूं बाजार खाता हूं पट्टी
लोग मुझे कहते हैं सुनील शेट्टी

जवानी की शायरी
चलाऊंगा ऑटो उड़ाऊंगा धूल
पहिए के नीचे पंजा और फूल
@AzadSamajParty ज़िंदाबाद
@Bhimarmy_BEM ज़िंदाबाद
@SurajKrBauddh ज़िंदाबाद
@GulzarSiddiqui_ ज़िंदाबाद
[ad_2]

Source by ꜱᴀɴᴊᴇᴇᴛ ᴊᴀᴛᴀᴠ

Leave a Reply