पढ़ कर शायरी मेरी, वो अंदाज़ बदल कर बोली, कोई छीनो कलम इससे, ये तो जान ले रहा है…

[ad_1]

पढ़ कर शायरी मेरी,
वो अंदाज़ बदल कर बोली,
कोई छीनो कलम इससे,
ये तो जान ले रहा है…….!!

@_alvida_
#शुभरात्रि
[ad_2]

Source by अलविदा

Leave a Reply