न जाने कौन सी बात पे छोड़ आए थे तेरा शहर याद करें भी तो अब याद कुछ आता क्यों नही…

न जाने कौन सी बात पे
छोड़ आए थे तेरा शहर
याद करें भी तो अब
याद कुछ आता क्यों नहीं?

गलियां तो वही हैं तिरी
अब भी हमदम
कोई रास्ता अब मगर
तिरे घर तक जाता क्यों नही?

‘रहगुज़र’

~ईरा
१३/५/२१

#शायरी
#कविता
#मोहब्बत
#यादे
#urdupoetry
#poetry
#thursdaymood
#ThursdayThought
#love
न जाने कौन सी बात पे
छोड़ आए थे तेरा शहर
याद करें भी तो अब
याद कुछ आता क्यों नही…

न जाने कौन सी बात पे
छोड़ आए थे तेरा शहर
याद करें भी तो अब
याद कुछ आता क्यों नहीं?

गलियां तो वही हैं तिरी
अब भी हमदम
कोई रास्ता अब मगर
तिरे घर तक जाता क्यों नही?

‘रहगुज़र’

~ईरा
१३/५/२१

#शायरी
#कविता
#मोहब्बत
#यादे
#urdupoetry
#poetry
#thursdaymood
#ThursdayThought
#love
#न #जन #कन #स #बत #पछड #आए #थ #तर #शहरयद #कर #भ #त #अबयद #कछ #आत #कय #नह

Twitter shayarish by Ira (#Amaltaas)

Leave a Reply