You are currently viewing नही आता तेरी मोहब्बत को छिपाना मुझे 

तेरी खुशबू मेरी हर शायरी मे बसा करती है …..
-आता-तेरी-मोहब्बत-को-छिपाना-मुझे-तेरी-खुशबू-मेरी

नही आता तेरी मोहब्बत को छिपाना मुझे तेरी खुशबू मेरी हर शायरी मे बसा करती है …..

नही आता तेरी मोहब्बत को छिपाना मुझे

तेरी खुशबू मेरी हर शायरी मे बसा करती है .. https://t.co/ASWnZcoUvx
नही आता तेरी मोहब्बत को छिपाना मुझे

तेरी खुशबू मेरी हर शायरी मे बसा करती है …..

नही आता तेरी मोहब्बत को छिपाना मुझे

तेरी खुशबू मेरी हर शायरी मे बसा करती है .. https://t.co/ASWnZcoUvx
#नह #आत #तर #महबबत #क #छपन #मझ #तर #खशब #मर #हर #शयर #म #बस #करत #ह

Twitter shayarish by फकीरा

Leave a Reply