You are currently viewing दाग़ ने अपनी ज़िंदगी के दर्दों को शायरी और ग़ज़लों में गूंथ दिया. उनकी शायरी में…
-ने-अपनी-ज़िंदगी-के-दर्दों-को-शायरी-और-ग़ज़लों

दाग़ ने अपनी ज़िंदगी के दर्दों को शायरी और ग़ज़लों में गूंथ दिया. उनकी शायरी में…

[ad_1]

दाग़ ने अपनी ज़िंदगी के दर्दों को शायरी और ग़ज़लों में गूंथ दिया. उनकी शायरी में दर्द और सुकून दोनों ही हैं. आज ‘नामी गिरामी’ में @AmanAlbelaa लेकर आए हैं कहानी दिल्ली के महबूब शायर, दाग़ देहलवी की. #AajtakRadio | #podcast

➡️https://t.co/qKPvSnkY2p https://t.co/ANIC52y9Yj

[ad_2]

Source by Aaj Tak Radio