You are currently viewing *दर्द  की बारिशों में हम, अकेले ही थे, ऐ दोस्त…!*

*जब बरसी ख़ुशियाँ, न जाने …
दर्द-की-बारिशों-में-हम-अकेले-ही-थे-ऐ-दोस्त

*दर्द की बारिशों में हम, अकेले ही थे, ऐ दोस्त…!* *जब बरसी ख़ुशियाँ, न जाने …

🍂🍃 *दर्द की बारिशों में हम, अकेले ही थे, ऐ दोस्त…!*

*जब बरसी ख़ुशियाँ, न जाने भीड़ कहां से आ गयी…!!!*
@Kamleshsaini98
Good evening my all best friendS ❤️🙏
#शायरी
#ज़िंदगी
#हिंदी_शब्द
#बज़्म
#दोस्ती
#दर्द
#खुशी
#सरस https://t.co/uwjuptp3aI
*दर्द की बारिशों में हम, अकेले ही थे, ऐ दोस्त…!*

*जब बरसी ख़ुशियाँ, न जाने …

🍂🍃 *दर्द की बारिशों में हम, अकेले ही थे, ऐ दोस्त…!*

*जब बरसी ख़ुशियाँ, न जाने भीड़ कहां से आ गयी…!!!*
@Kamleshsaini98
Good evening my all best friendS ❤️🙏
#शायरी
#ज़िंदगी
#हिंदी_शब्द
#बज़्म
#दोस्ती
#दर्द
#खुशी
#सरस https://t.co/uwjuptp3aI
#दरद #क #बरश #म #हम #अकल #ह #थ #ऐ #दसतजब #बरस #खशय #न #जन

Twitter shayarish by 🇮🇳Official Kamlesh Saini🇮🇳

Leave a Reply