तेरे गम में भी गर खुशी ना ला पायें तो फिर ये शायरी क्या कह पायें? तेरे बगैर घर …

[ad_1]

तेरे गम में भी गर खुशी ना ला पायें
तो फिर ये शायरी क्या कह पायें?

तेरे बगैर घर में गर रौनक ना ला पायें
तो फिर ये गीत क्या कह पायें?

…कमल पुंडी़र https://t.co/B68A9Gyr8y
[ad_2]

Source by Kamal Pundir Lawyer Kavi Shayar

Leave a Reply