तुम कभी मेरी आँखें नहीं पढ़ पाई चलो अनपढ़ कहीं की ।। #बज़्म #शायरांश #शायरी #ह…

तुम कभी मेरी आँखें नहीं पढ़ पाई
चलो अनपढ़ कहीं की ।।
#बज़्म
#शायरांश
#शायरी
#हिंदी
#शब्दनिधि
तुम कभी मेरी आँखें नहीं पढ़ पाई
चलो अनपढ़ कहीं की ।।
#बज़्म
#शायरांश
#शायरी
#ह…

तुम कभी मेरी आँखें नहीं पढ़ पाई
चलो अनपढ़ कहीं की ।।
#बज़्म
#शायरांश
#शायरी
#हिंदी
#शब्दनिधि
#तम #कभ #मर #आख #नह #पढ #पईचल #अनपढ #कह #क #बजमशयरश #शयर #ह

Twitter shayarish by Shukla ji ( self written poems nd 2 liners)