You are currently viewing तुम्हें सौंपते हैं बहारें नज़ारे,
हंसी चांदनी में नदी के किनारे।
ये खुशबू ये रंग…

तुम्हें सौंपते हैं बहारें नज़ारे, हंसी चांदनी में नदी के किनारे। ये खुशबू ये रंग…

तुम्हें सौंपते हैं बहारें नज़ारे,
हंसी चांदनी में नदी के किनारे।
ये खुशबू ये रंगत चमकते सितारे,
महकते गुलों के चमन आज सारे।

तुम्हें सौंपते हैं…।

~ नितिन कुमार हरित : #NitinKrHarit

#बज़्म #हिंदी_शब्द #काव्य_कृति #शायरांश #hindipoetry #शायरी #HindiLines #loveislove #shorts https://t.co/rPe5Ieay9Z

तुम्हें सौंपते हैं बहारें नज़ारे,
हंसी चांदनी में नदी के किनारे।
ये खुशबू ये रंग…

तुम्हें सौंपते हैं बहारें नज़ारे,
हंसी चांदनी में नदी के किनारे।
ये खुशबू ये रंगत चमकते सितारे,
महकते गुलों के चमन आज सारे।

तुम्हें सौंपते हैं…।

~ नितिन कुमार हरित : #NitinKrHarit

#बज़्म #हिंदी_शब्द #काव्य_कृति #शायरांश #hindipoetry #शायरी #HindiLines #loveislove #shorts https://t.co/rPe5Ieay9Z

#तमह #सपत #ह #बहर #नजरहस #चदन #म #नद #क #कनरय #खशब #य #रग

Twitter shayarish by नितिन कुमार ‘हरित’