You are currently viewing तुझमें अल्प,  मुझमें पूर्ण
दोनों का दर्द, एक समान
……………………………
तुझमें-अल्प-मुझमें-पूर्ण-दोनों-का-दर्द-एक-समान

तुझमें अल्प, मुझमें पूर्ण दोनों का दर्द, एक समान ……………………………

[ad_1]

तुझमें अल्प, मुझमें पूर्ण
दोनों का दर्द, एक समान
………………………….
कोमा, हलंत या चंद्र बिन्दु
अब लगे ख़ुशी पूर्ण विराम,
………………,………….
खण्डित तेरी-मेरी कहानी
दिखा रहे मिथ्या मुस्कान।

✍️कौशल 💐
#बज़्म #सरस #शायरी #शायरांस https://t.co/yRa02uGp5W
[ad_2]

Source by Kaushal Kishor Jha (Adv.)

Leave a Reply