तलाश में चंद खुशियों के, जाने घर से कितनी दूर हो, कमानी खुशियां हैं मेहनत से, हा…

[ad_1]

तलाश में चंद खुशियों के,
जाने घर से कितनी दूर हो,
कमानी खुशियां हैं मेहनत से,
हा एहसास है तुम मजबूर हो..।।
#विवेक_शायरी
[ad_2]

Source by ⚡ ♛ रांझणा ♕ ⚡

Leave a Reply