You are currently viewing जिस कौम को इक़बाल की शायरी और मौलाना आज़ाद की तड़प न जगा सकी,

उस कौम को मार्क ज…
-कौम-को-इक़बाल-की-शायरी-और-मौलाना-आज़ाद-की

जिस कौम को इक़बाल की शायरी और मौलाना आज़ाद की तड़प न जगा सकी, उस कौम को मार्क ज…

[ad_1]

जिस कौम को इक़बाल की शायरी और मौलाना आज़ाद की तड़प न जगा सकी,

उस कौम को मार्क ज़ुकरबर्ग ने रात-दिन बेहद जगाया…!! https://t.co/d07olmh65f
[ad_2]

Source by रंगरेज माहिरा

Leave a Reply