|| जिनकी रग-रग में हो पानी वो फासला रखें खून लगता है हमारी शायरी को पढ़ने में…

[ad_1]

🍁|| जिनकी रग-रग में हो पानी वो फासला रखें

खून लगता है हमारी शायरी को पढ़ने में ||🍁
[ad_2]

Source by 🍁 शब्दों_के_तीर 🍁

Leave a Reply