You are currently viewing जहाँ मोहब्बत है “दीप”, वहीं ख़ुदा रहता है।
ये बात खुद ही मुझसे, मेरा ख़ुदा कहता …
-मोहब्बत-है-दीप-वहीं-ख़ुदा-रहता-है।-ये-बात

जहाँ मोहब्बत है “दीप”, वहीं ख़ुदा रहता है। ये बात खुद ही मुझसे, मेरा ख़ुदा कहता …

जहाँ मोहब्बत है “दीप”, वहीं ख़ुदा रहता है।
ये बात खुद ही मुझसे, मेरा ख़ुदा कहता है ॥
#दीप ✍️
😍🙏

#सुप्रभात् 🌻 🙏
#जय_श्रीराम 🚩
#हर_हर_महादेव 🚩
#बज़्म
#शायरी #हिन्दी_शब्द #शब्दनिधि #३ह #love #मोहब्बत https://t.co/TxzsFALYXe
जहाँ मोहब्बत है “दीप”, वहीं ख़ुदा रहता है।
ये बात खुद ही मुझसे, मेरा ख़ुदा कहता …

जहाँ मोहब्बत है “दीप”, वहीं ख़ुदा रहता है।
ये बात खुद ही मुझसे, मेरा ख़ुदा कहता है ॥
#दीप ✍️
😍🙏

#सुप्रभात् 🌻 🙏
#जय_श्रीराम 🚩
#हर_हर_महादेव 🚩
#बज़्म
#शायरी #हिन्दी_शब्द #शब्दनिधि #३ह #love #मोहब्बत https://t.co/TxzsFALYXe
#जह #महबबत #ह #दप #वह #खद #रहत #हय #बत #खद #ह #मझस #मर #खद #कहत

Twitter shayarish by 🚩अनिल त्रिपाठी #दीप ✍️ 🇮🇳 सनातनी 🚩

Leave a Reply