जमाने का मुझसे न जाने क्या गिला चल रहा है, यहाँ तो बस जख्मों से ही जख्मो का सिलस…

[ad_1]

जमाने का मुझसे न जाने क्या गिला चल रहा है,
यहाँ तो बस जख्मों से ही जख्मो का सिलसिला चल रहा है….
#हिंदी_शब्द
#शायरी
#काव्य_कृति
[ad_2]

Source by Ritik Tiwari

Leave a Reply